कारवां पत्रिका के पत्रकार के साथ दिल्ली पुलिस अधिकारी ने की मारपीट

उत्तरी दिल्ली में एक नाबालिग के साथ हुए कथित बलात्कार और हत्या के संबंध में हो रहे विरोध प्रदर्शन को कवर करने के दौरान पुलिसकर्मियों ने की मारपीट.

कारवां पत्रिका के पत्रकार के साथ दिल्ली पुलिस अधिकारी ने की मारपीट

कारवां पत्रिका के पत्रकार अहान पेनकर ने उत्तरी दिल्ली के मॉडल टाउन थाने में पुलिस ऑफिसर पर पीटने का आरोप लगाया है. अहान एक घटना की रिपोर्टिंग करने वहां गए थे, जब उनके साथ यह घटना हुई. पत्रकार का कहना है कि उन्होंने पुलिस को अपना प्रेस कार्ड भी दिखाया लेकिन पुलिस ने फिर भी उन्हें लगभग 4 घंटे तक मॉडल टाउन थाने में रखा और मारपीट की.

23 वर्षीय पेनकर ने पिटाई का आरोप मॉडल टाउन के एसीपी अजय कुमार और अन्य पुलिसकर्मियों पर लगाया. पिटाई से अहान के नाक, कंधा, पीठ, टखने सहित कई जगह चोट के निशान हैं.

अहान उत्तरी दिल्ली में एक नाबालिग के साथ हुए कथित बलात्कार और हत्या के संबंध में हो रहे एक विरोध प्रदर्शन को रिपोर्ट कर रहे थे. इस मामले में एफआईआर दर्ज करने की मांग को लेकर छात्र और कार्यकर्ता मॉडल टाउन थाने के बाहर जमा थे. जब अहान नाबालिग की चाची से घटना के बारे में बात कर रहे थे तभी पुलिस ने उन्हें प्रदर्शनकारियों के साथ अंदर थाने में बंद कर दिया और उनके साथ मारपीट की.

आरोप है कि पुलिस ने अहान का फोन भी जबरदस्ती छीन लिया था और उसमें से घटना से संबंधित फोटो और वीडियो डिलीट कर दिए.

घटना के बाद पत्रकार ने एसीपी अजय कुमार और मॉडल टाउन के अन्य पुलिसवालों के खिलाफ दिल्ली पुलिस कमिश्नर एसएन श्रीवास्तव को शिकायती पत्र लिखकर दोषी पुलिसवालों पर एफआईआर करने और मामले की जांच कराने को कहा है.

कारवां पत्रिका के पॉलिटिकल एडीटर हरतोष सिंह बल ने इस घटना के बारे में न्यूजलॉन्ड्री को बताते हुए कहा, “हमारे पत्रकार के साथ थाने के भीतर यह जानते हुए कि यह एक रिपोर्टर है, मारपीट की गई. उसके शरीर पर हमले के निशान भी मौजूद हैं. हम इस घटना पर ज्यादा जानकारी इकट्ठा कर रहे हैं और घटना की पुलिस शिकायत के साथ ही एक रिपोर्ट भी प्रकाशित करेंगे.”

Also Read : कारवां के पत्रकारों पर हमला: ‘‘यह सरकार की विचारधारा का सड़क पर रिफ्लेक्शन है’’
Also Read : छत्तीसगढ़ में जर्नलिस्ट से हुई मारपीट के खिलाफ प्रदर्शन करे रहे पत्रकार का हुआ ट्रांसफर
newslaundry logo

Pay to keep news free

Complaining about the media is easy and often justified. But hey, it’s the model that’s flawed.

Related Stories