हिंदी अखबारों ने अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी को दी पहले पेज पर जगह

अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी की खबर के बाद से भाजपा और कांग्रेस आमने सामने हैं. भाजपा नेता इसे आपातकाल बता रहे हैं.

हिंदी अखबारों ने अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी को दी पहले पेज पर जगह
  • whatsapp
  • copy

रिपब्लिक मीडिया ग्रुप के एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी को मुंबई पुलिस ने बुधवार सुबह उनके घर से गिरफ्तार कर लिया. यह गिरफ्तारी आत्महत्या के एक पुराने केस में की गई है. इस खबर को आज सभी अखबारों ने प्रमुखता से छापा है. हिंदी बेल्ट के ज्यादातर अखबारों ने इसे पहले पेज पर जगह दी है. गिरफ्तारी के बाद से भाजपा और कांग्रेस आमने-सामने हैं. वहीं भाजपा इसे आपातकाल बता रही है.

दैनिक भास्कर ने "मुंबई: रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी गिरफ्तार" हेडिंग के साथ प्रथम पेज पर जगह दी है. अखबर ने दो सब हेड भी दिए हैं "ये है मामला: इंटीरियर डिजाइनर के सुसाइड नोट में किया था अर्नब गोस्वामी का जिक्र" जबकि दूसरे सब हेड में " सियासत गर्माई: गृहमंत्री बोले-राज्य की शक्ति का दुरुपयोग हुआ, शिवसेना बोली-कार्रवाई दुर्भावना से नहीं" अखबार ने इस खबर को विस्तार छापा है.

दैनिक भाष्कर

दैनिक भाष्कर

हिंदुस्तान अखबर ने इस खबर को "अर्नब 14 दिन की न्यायिक हिरासत में" हेडिंग के साथ लगाया है. अखबार ने अमित शाह की प्रतिक्रिया को भी प्रथम पेज पर ही जगह दी है. अखबार ने प्रथम पेज के बाद इस खबर के शेष हिस्से को पेज 12 पर भी जगह दी है.

हिंदुस्तान अखबार

हिंदुस्तान अखबार

वहीं दैनिक जागरण ने भी इस खबर को पहले पेज पर जगह दी है. अखबार ने प्रथम पेज पर तीन कॉलम की जगह देने के बाद इसकी शेष खबर को पेज तीन पर भी जगह दी है. अखबार में खबर के बारे में विस्तार से बताया गया है. अखबार ने हेडिंग दी है "महाराष्ट्र में रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी गिरफ्तार"

दैनिक जागरण

दैनिक जागरण

इन सभी अखबारों ने अर्नब गोस्वामी के बयान को भी प्रमुखता से छापा है, "अर्नब ने पुलिस पर मारपीट का आरोप लगाया है" वहीं इस मामले पर नेताओं ने क्या बोला है इसे भी छापा है. इनमें गृहमंत्री अमित शाह के बयान सहित अन्य भाजपा नेताओं के बयान शामिल हैं. जागरण ने एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया और एनबीए ने गिरफ्तारी पर जो निंदा जाहिर की है उस बयान को भी प्रथम पेज पर ही जगह दी है.

इसके अलावा अमर उजाला अखबार ने भी इस खबर को प्रथम पेज पर जगह दी है. अखबार ने हेडिंग दी है "अर्नब गोस्वामी दो साल पुराने मामले में गिरफ्तार" वहीं अखबार ने "महिला पुलिस से मारपीट का केस दर्ज, 18 तक न्यायिक हिरासत में भेजे गए" सब हेड भी दिया है. अमर उजाला ने खबर के शेष भाग को पेज 13 पर छापा है. इन सभी अखबारों ने अर्नब गोस्वामी के पुलिस कस्टडी में गाड़ी में जाते हुए वाली तस्वीर के साथ खबर को छापा है.

अमर उजाला

अमर उजाला

बता दें कि अर्नब गोस्वामी को महाराष्ट्र सीआईडी ने 2018 में इंटीरियर डिजाइनर अन्वय नाइक और उनकी मां कुमुद नाइक की आत्महत्या की जांच के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया है. यह गिरफ्तारी बुधवार को अर्णब के घर से की गई है. इस दौरान रिपब्लिक मीडिया ने आरोप लगाया है कि पुलिस ने गिरफ्तारी करने के दौरान उनसे और उनके परिवार के सदस्यों से भी मारपीट की है.

इस पूरे मामले में अब काग्रेस और भाजपा आमने-सामने हैं. जबकि बेजीपी आरोप लगा रही है कि महाराष्ट्र में कांग्रेस और शिवसेना बदले की भावना से काम कर रहे हैं. गृहमंत्री अमित शाह, सीएम योगी आदित्यनाथ सहित अन्य भाजपा नेताओं ने इसे आपातकाल के दौर की याद बताते हुए कांग्रेस पर जमकर हमला बोला है.

Also Read : अर्नब को हाईकोर्ट से नहीं मिली जमानत, कल फिर होगी सुनवाई
Also Read : बहुमुखी अर्नब गोस्वामी और एकमुखी सुधीर चौधरी
newslaundry logo

Pay to keep news free

Complaining about the media is easy and often justified. But hey, it’s the model that’s flawed.

You may also like