उन सभी खबरों को नियंत्रित किया जा रहा है जिससे सरकार की इमेज पर कोई दाग न लगे!

सरकार ने आज न्यूजक्लिक को निशाने पर लिया है, उसके प्रमोटर प्रबीर पुरकायस्थ का चरित्रहनन कर रही है. कल हो सकता है कि द कारवां, स्क्रॉल, न्यूजलॉड्री, वायर, क्विंट, सत्य हिन्दी जैसे कुछ और न्यूज पोर्टलों के यहां छापा डलवाए और उसके प्रमोटरों का भी चरित्र हनन करे.

उन सभी खबरों को नियंत्रित किया जा रहा है जिससे सरकार की इमेज पर कोई दाग न लगे!
  • whatsapp
  • copy

पिछले 84 दिनों से दिल्ली के बॉर्डर पर हजारों किसान सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं. ये किसान इतनी सर्दी में अपने दौ सौ से अधिक धरना दे रहे भाइयों की मौत के बाद भी डटे हुए हैं. यह खबर मुख्यधारा की मीडिया में कहीं नहीं आ रही है. इसके उलट सरकार की तरफदारी करते हुए सभी टीवी चैनलों व अखबारों ने उन किसानों को आतंकवादी-खालिस्तानी से लेकर देशद्रोही तक कहा है.

पिछले दिनों सिंघु बॉर्डर पर जनपथ व कारवां के लिए रिपोर्टिंग कर रहे मनदीप पुनिया व दूसरे पत्रकार धर्मेन्द्र सिंह को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. उन दोनों को पुलिस ने इसलिए उठाया क्योंकि वे किसानों की बातों को गंभीरतापूर्वक उठा रहे थे. अंदाजा लगाइए कि अगर मुख्यधारा के मीडिया घराने की तरफ से भी किसानों के बारे में सही सही रिपोर्टिंग हो रही होती तो अभी तक सरकार घुटने पर नहीं आ गयी होती? क्या कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर व वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल की वह हैसियत होती कि वे इस शर्त पर किसानों से 12 राउंड की बात करते कि हम बिल को वापस नहीं लेंगे, अगर आपको इसके अलावा भी कुछ कहना है तो आप हमारे साथ बात करो!

जिस दिन भी किसानों के साथ बैठक हुई, उस दिन के टीवी चैनलों या अगले दिन के अखबार की हेडिंग देखने से पता चलता था कि जैसे किसान बिना किसी उद्देश्य के अपना घर-द्वार छोड़कर यहां बॉर्डर पर अय्याशी करने आ गये हैं!

सरकार ने आज न्यूजक्लिक को निशाने पर लिया है, उसके प्रमोटर प्रबीर पुरकायस्थ का चरित्रहनन कर रही है. कल हो सकता है कि द कारवां, स्क्रॉल, न्यूजलॉड्री, वायर, क्विंट, सत्य हिन्दी जैसे कुछ और न्यूज पोर्टलों के यहां छापा डलवाए और उसके प्रमोटरों का भी चरित्र हनन करे. हमें यह मानना चाहिए कि न्यूजक्लिक के यहां ईडी का छापा पड़ना इस बात को प्रमाणित करता है कि वह सचमुच पत्रकारिता कर रहा है और इस सरकार को सबसे अधिक डर सच दिखाने से ही लगता है!

(साभार-जनपथ)

Also Read : ‘न्यूजक्लिक’ के दफ्तर पर ईडी के छापे से नाराज पत्रकार संगठनों ने की कड़ी आलोचना
Also Read : परस्पर विरोध और मीडिया में अविश्वास: मंगोलपुरी में रिंकू शर्मा की मृत्यु की पड़ताल
newslaundry logo

Pay to keep news free

Complaining about the media is easy and often justified. But hey, it’s the model that’s flawed.

You may also like