नहीं रहे वरिष्ठ पत्रकार और लेखक अनिल धारकर

गुरुवार को मुंबई के एक अस्पताल में लेखक अनिल धारकर की बाईपास सर्जरी हुई थी.

नहीं रहे वरिष्ठ पत्रकार और लेखक अनिल धारकर
  • whatsapp
  • copy

74 वर्षीय वरिष्ठ पत्रकार और लेखक अनिल धारकर का ह्रदय की बीमारी के चलते निधन हो गया. उनके एक पूर्व सहयोगी ने बताया कि गुरुवार को मुंबई के एक अस्पताल में उनकी बाईपास सर्जरी हुई थी.

पांच दशक से भी अधिक लंबे करियर में वह स्तंभकार और लेखक के रूप में सक्रिय रहे तथा फिल्म सेंसर बोर्ड की सलाहकार समिति के सदस्य समेत कई अन्य पदों पर भी रहे. वह हर साल नवंबर में आयोजित होने वाले मुंबई अंतरराष्ट्रीय साहित्य महोत्सव के संस्थापक और निदेशक थे तथा साथ ही लिटरेचर लाइव के संस्थापक एवं निदेशक भी थे जो मुंबई में साल भर साहित्यिक कार्यक्रम आयोजित करता है.

अनिल धारकर कई प्रकाशनों के संपादक भी रहे जिनमें देबोनायर, मिड-डे, संडे मिड-डे, द इंडीपेंडेंट और द इलस्ट्रेटेड वीकली ऑफ इंडिया शामिल हैं. वह इंडियन एक्सप्रेस के स्तंभकार भी थे.

सोशल मीडिया पर कई वरिष्ठ पत्रकारों ने उनके निधन पर शोक जताया है. पत्रकार शोभा डे, कांग्रेस सांसद और लेखक शशि थरूर और लेखक प्रसून जोशी समेत कई अन्य लेखकों और पत्रकारों ने दुख जाहिर किया.

अनिल धारकर दूरदर्शन, चिल्ड्रन्स फिल्म सोसाइटी ऑफ इंडिया और भारत में फिल्मों के निर्माण के लिए कई फिल्म फंडों के सलाहकार बोर्डों के सदस्य रहे हैं. उन्हें पत्रकारिता के क्षेत्र में कई पुरस्कारों से भी सम्मानित किया गया है.

Also Read : पत्रकार पैट्रिशिया मुखिम के खिलाफ दर्ज एफआईआर को सुप्रीम कोर्ट ने किया रद्द
Also Read : डिजीपब फाउंडेशन ने कंटेंट रिव्यू के लिए चार सदस्यों वाली कमेटी का किया गठन
newslaundry logo

Pay to keep news free

Complaining about the media is easy and often justified. But hey, it’s the model that’s flawed.

You may also like