बिहार चुनाव: क्या ओवैसी सीमांचल में बिगाड़ेंगे महागठबंधन का खेल?

पूरे बिहार में जहां एनडीए और महागठबंधन के बीच मुकाबला है वहीं सीमांचल में एनडीए गठबंधन पीछे छूट जाता है. यहां मुकाबला महागठबंधन और ओवैसी की पार्टी एमआईएम के बीच माना जा रहा है. पर यह क्या सच है?

  • whatsapp
  • copy

किशनगंज में राहुल गांधी की सभा में आए एक बुजुर्ग मुसलमानों को किसको वोट देना चाहिए के सवाल पर कहते हैं, "यह समाज भी अब किसी का बंधुआ वोटर नहीं रह गया है. जिसने भी हमारा ख्याल रखा होगा हम उसे वोट देंगे. ऐसा नहीं होगा कि आंख बंद करके किसी को भी दे देंगे.’’

सीमांचल में 7 नवंबर को चुनाव होना है. बिहार के चुनाव के नतीजे 10 नवंबर को आएंगे. ऐसे में देखना होगा कि सीमांचल की जनता ओवैसी के बिहार में सियासी सफर को तेज करती है या ब्रेक लगाती है. ओवैसी के पास सीमांचल में खोने के लिए कुछ नहीं है.

***

यह स्टोरी एनएल सेना सीरीज का हिस्सा है, जिसमें हमारे 99 पाठकों ने योगदान दिया. आप भी हमारे बिहार इलेक्शन 2020 सेना प्रोजेक्ट को सपोर्ट करें और गर्व से कहें 'मेरे खर्च पर आज़ाद हैं ख़बरें'.

Also Read : बिहार चुनाव: नीतीश से ज्यादा बीजेपी पर हमलावर दिखे सीपीआई (एमएल) के महासचिव दीपांकर भट्टाचार्य
Also Read : बिहार चुनाव: गया के मज़दूर क्यों हैं पीएम मोदी और नीतीश कुमार से खफा?
newslaundry logo

Pay to keep news free

Complaining about the media is easy and often justified. But hey, it’s the model that’s flawed.
newslaundry logo

Pay to keep news free

Complaining about the media is easy and often justified. But hey, it’s the model that’s flawed.

You may also like