अजय ब्रह्मात्मज

दो भवन, एक विरासत और एक कपूर खानदान

दो भवन, एक विरासत और एक कपूर खानदान

इरफान: “यहां नेटवर्किंग से काम मिलता है, सिर्फ अपने टैलेन्ट से नहीं”

इरफान: “यहां नेटवर्किंग से काम मिलता है, सिर्फ अपने टैलेन्ट से नहीं”

संग-संग : सुतपा सिकदर और इरफान खान के साथ

संग-संग : सुतपा सिकदर और इरफान खान के साथ

फिल्म इंडस्ट्री को एक्शन में आने में लगेगा लंबा वक्त

फिल्म इंडस्ट्री को एक्शन में आने में लगेगा लंबा वक्त

फिल्मी कारोबार को लगा कोरोना का टोना

फिल्मी कारोबार को लगा कोरोना का टोना

स्टीरियोटाइप राष्ट्रवादी एजेंडा के खिलाफ खड़ी है ‘शिकारा’

स्टीरियोटाइप राष्ट्रवादी एजेंडा के खिलाफ खड़ी है ‘शिकारा’

रिचा चड्ढा पार्ट 2: ‘लोकतंत्र में तो विपक्ष में रहना ही चाहिए’

रिचा चड्ढा पार्ट 2: ‘लोकतंत्र में तो विपक्ष में रहना ही चाहिए’

रिचा चड्ढा: सिर फोड़ कर आप सोच नहीं बदल सकते…

रिचा चड्ढा: सिर फोड़ कर आप सोच नहीं बदल सकते…

रंग की वजह से कई रिजेक्शन मिले: उषा जाधव

रंग की वजह से कई रिजेक्शन मिले: उषा जाधव

सरकारी फिल्म फेस्टिवल का 50वां आयोजन

सरकारी फिल्म फेस्टिवल का 50वां आयोजन

मामी फिल्म फेस्टिवल : ज़िन्दगी के कठोर धरातल पर उगी चंद फ़िल्में 

मामी फिल्म फेस्टिवल : ज़िन्दगी के कठोर धरातल पर उगी चंद फ़िल्में 

पार्ट 2: ‘मेरा काम बड़े फिल्मकारों को काम देने के लिए मजबूर कर देगा’

पार्ट 2: ‘मेरा काम बड़े फिल्मकारों को काम देने के लिए मजबूर कर देगा’

तापसी पन्नू: ‘मुझे एहसास है कि आज जिन सीढ़ियों से ऊपर चढ़ रही हूं, कल उन्हीं से उतरना भी है’

तापसी पन्नू: ‘मुझे एहसास है कि आज जिन सीढ़ियों से ऊपर चढ़ रही हूं, कल उन्हीं से उतरना भी है’

ख़रामा ख़रामा हिंदी से हिंग्लिश होती हिंदी फिल्मों की संस्कृति

ख़रामा ख़रामा हिंदी से हिंग्लिश होती हिंदी फिल्मों की संस्कृति

कैसे और क्यों अपने ही देश में पहचान खोकर हम पराए और शरणार्थी हो गए: संजय सूरी

कैसे और क्यों अपने ही देश में पहचान खोकर हम पराए और शरणार्थी हो गए: संजय सूरी

दीपक डोबरियाल: ‘बेइज्जती’ सहो, उन्हें स्वीकार करो, कभी रिएक्ट मत करो और खुद में सुधार करो

दीपक डोबरियाल: ‘बेइज्जती’ सहो, उन्हें स्वीकार करो, कभी रिएक्ट मत करो और खुद में सुधार करो

मखौल या मज़ाक नहीं है मीडिया प्रतिबंध 

मखौल या मज़ाक नहीं है मीडिया प्रतिबंध 

हिंदी सिनेमा 2019: विविधता और कामयाबी की पहली छमाही

हिंदी सिनेमा 2019: विविधता और कामयाबी की पहली छमाही

‘मैं खुद में लखमीचंद को और लखमीचंद में खुद को देखने लग गया हूं’: यशपाल शर्मा

‘मैं खुद में लखमीचंद को और लखमीचंद में खुद को देखने लग गया हूं’: यशपाल शर्मा

वेब सीरीज़ पर आसन्न सेंसरशिप का खतरा

वेब सीरीज़ पर आसन्न सेंसरशिप का खतरा

;
Newslaundry
www.newslaundry.com